History Of Computer In Hindi ( कंप्यूटर का इतिहास )

History Of Computer In Hindi ( कंप्यूटर का इतिहास ); कंप्यूटर का इतिहास बहुत रोचक है और दिलचस्प है। डेटा को प्रक्रिया करने, संचयित करने और जांचने की क्षमता वाले तकनीकी उपकरण का नाम कंप्यूटर है। आज कंप्यूटर हर क्षेत्र (जैसे विज्ञान, उद्योग, मेडिकल, शिक्षा, कला, सांख्यिकी और संचार) में काम करते हैं।

आज आप इंटरनेट चलाते हैं, गेम खेलते हैं, वीडियो देखते हैं, गाने सुनते हैं और इसके अलावा कई ऑफिस काम करते हैं। आज कंप्यूटर हर जगह उपयोग किया जाता है, चाहे वह आपका कार्यालय, शिक्षा या फिल्म क्षेत्र हो। कंप्यूटर के बिना जगह नहीं है 

History Of Computer In Hindi

आज कंप्यूटर की सहायता से आप इंटरनेट पर दुनिया के किसी भी शहर की कोई भी सूचना डाउनलोड कर सकते हैं। ये किसी दूसरे देश में बैठे अपने मित्रों और परिचितों से इंटरनेट पर लाइव वीडियो कॉन्फ्रेंस कर सकते हैं। यह सब कंप्यूटर के कारण संभव हुआ है। आज की दुनिया क्या होती अगर कंप्यूटर नहीं होता? 

कंप्यूटर का जन्म क्यूँ हुआ? क्या वास्तव में कंप्यूटर इन सभी कामों को करने के लिए बना था या किसी और कारण से बना था? आइए जानते हैँ !

History Of Computer In Hindi ( कंप्यूटर का इतिहास )

मानव की गणना पहले से ही मुश्किल है बिना किसी मशीन के, मनुष्य केवल कुछ ही स्तर की गणना या केलकुलेशन कर सकते हैं। मानव को अधिक बड़े कैलकुलेशन के लिए मशीन पर निर्भर करना पड़ता है मनुष्य ने गणना की जरूरत को पूरा करने के लिए कंप्यूटर बनाया। 

इन वर्षों में कंप्यूटर का विकास हुआ:

19वीं शताब्दी के आखिरी दशक में एडा लवलेस ने चार्ल्स बैबेज के "एनालिटिकल इंजन" के लिए एक प्रोग्राम लिखा, जो अल्गोरिदम पर आधारित था। Ada Loveless को "कंप्यूटर का पहला प्रोग्रामर" कहा जाता है।

20वीं शताब्दी के प्रारंभ में, दुनिया भर में कई संगणकीय उपकरण बनाए गए। एलन ट्यूरिंग ने 1936 में ट्यूरिंग मशीन की अवधारणा दी, जो बाद में वास्तविक कंप्यूटरों का आधार बन गई।


दूसरे विश्वयुद्ध (1940–1945) के दौरान विश्व भर में वोल्टेर शिखर (ENIAC) जैसे पहले इलेक्ट्रॉनिक डिजिटल कंप्यूटर बनाए गए। बॉम्बे प्रोजेक्ट वेल्कम ने इनका उपयोग कंप्यूटर आंकड़ों को गिनने में किया था।

1947 में ट्रांजिस्टर का आविष्कार हुआ, जिससे कंप्यूटर तकनीकी में एक क्रांति आई। ट्रांजिस्टर एक संज्ञानात्मक एलेक्ट्रॉनिक उपकरण था जो ENIAC (वाल्टेर शिखर) के प्रकारक वैक्यूम ट्यूबों की जगह ले सकता था।

इस कारक के आधार पर 1950 और 1960 के दशक में कंप्यूटर के विकास में तेजी से सुधार हुआ। इस समय कंप्यूटर प्रोग्रामिंग भाषाएं, जैसे FORTRAN, COBOL, और ALGOL, विकसित हुईं, जो कंप्यूटर प्रोग्रामिंग को आसान और आसान बनाया।

1970 के दशक में व्यक्तिगत कंप्यूटर का विकास हुआ, जिससे आम लोगों को कंप्यूटिंग तकनीक का उपयोग करने का मौका मिल गया। Microsoft, Apple और IBM ने इस क्षेत्र में बहुत कुछ किया।

1990 के बाद, इंटरनेट ने दुनिया भर में लोगों को एक-दूसरे से जुड़ने और सूचना साझा करने की क्षमता दी।


21वीं शताब्दी में कंप्यूटरों की गति, क्षमता, और संचय प्रक्रियाओं में काफी सुधार हुआ है। इंटरनेट और मोबाइल तकनीकी का प्रचार होने से डिजिटल युग की शुरुआत हुई है, जिसमें पूरे मानव समाज को आधुनिक कंप्यूटर और नियंत्रित तकनीक से प्रभावित किया जा रहा है।

कंप्यूटर का इतिहास लगातार बदल रहा है, और नई तकनीकी प्रगति के साथ भविष्य में इसे और भी अधिक आसान बनाने की उम्मीद है।

कंप्यूटर का इतिहास


अबेकस: लगभग 3000 वर्ष पूर्व, चीन के वैज्ञानिकों ने अबेकस बनाया था। गणना या केलकुलेशन करने के लिए एक आयताकार फ्रेम में लोहे की छड़ों में लकड़ी की गोलियाँ लगाई जाती थीं। यानी बिना बिजली के काम करने वाले पहले कंप्यूटर था। वास्तव में, मैं सिर्फ आपके हाथों पर निर्भर था।

एंटीकाईथेरा तंत्र: 2000 साल पहले, Antikythera असल में एक खगोलीय कैलकुलेटर था जिसका प्रयोग प्राचीन यूनान में सौर और चंद्र ग्रहणों को ट्रैक करने के लिए किया जाता था. 1901 में, वैज्ञानिकों ने इसे एक जीर्ण-क्षीर्ण अवस्था में एंटीकाइथेरा द्वीप पर नष्ट हो चुके जहाज से मिला, जिससे इसका नाम एंटीकाइथेरा सिस् टम पड़ा. वैज्ञानिकों ने यह मशीन आकाश में सूर्य और चांद की स्थिति को दिखाती है, साथ ही ग्रहों को भी दिखाती है। एंटीकाईथेरा सिस्टम को यूनानी ने खगोलीय और गणितीय आकड़ो का सही अनुमान लगाने के लिए बनाया था, जो आधुनिक युग का पहला ज्ञात एनलोग कंप्यूटर था।

Pascaline: 1642 में अबेकस ने पास्कलाइन बनाया। 1642 में गणितज्ञ ब्लेज पास्कल ने इसे बनाया, जो अबेकस से अधिक गति से गणना कर सकता था। इससे पहले मैकेनिकल कैलकुलेटर बनाया गया था। Blase Pascal की इस एंडिंग मशीन को Pascaline भी कहा जाता था।

डिफरेंज इंजन (Difference Engine): यह सन् 1822 में सर चार्ल्स बैबेज ने बनाया था और सटीक गणनायें कर सकता था. यह प्रोग्राम स्टोर करने के लिए पंच कार्ड का उपयोग करता था। चार्ल्स बैवेज को कंप्यूटर का जनक कहा जाता है क्योंकि वह भाप से चलता था, जो आज के कंप्यूटरों का आधार है।

जुसे जेड - 3 - सन् 1941  में, महान वैज्ञानिक "कोनार्ड जुसे" ने "Zuse-Z3" नामक एक अद्भुत मशीन बनाई, जो द्वि-आधारी अंकगणित (Binary Arithmetic) और चल बिन्दु अंकगणित (Floating Point Arithmetic) पर आधारित पहला इलेक्ट्रॉनिक कंप्यूटर था।

अनिएक - सन् 1946  में एक अमेरिकी सैन्य अध्ययन कक्ष ने "ENIAC" (Electronic Numerical Integrator And Computer) नामक मशीन बनाई। सन् 1948 में फ्रेडरिक विलियम्स और टॉम किलबर्न ने मैनचेस्टर स् माल स् केल मशीन (SSEM) बनाया, जो पहला ऐसा कंप्यूटर था जो किसी भी प्रोग्राम को वैक्यूम ट्यूब (Vacume Tube) में सुरक्षित रख सकता था. "ENIAC" दशमलव अंकगणितीय प्रणाली पर काम करता था, और बाद में इसे सर्वप्रथम कंप्यूटर के रूप में प्रसिद्ध हुआ।

आज के इस लेसन में हमने सीखा History Of Computer In Hindi ( कंप्यूटर का इतिहास ) ! हम उम्मीद करते है आपको यह आर्टिकल पसंद आया होगा ! किर्प्या आप कमेंट करके यह बताये की आपको यह आर्टिकल कैसे लगा !